ब्रेकिंग न्यूज कुनकुरी:- संरक्षित अभ्यारण में सागौन पेड़ों की अवैध कटाई पर वन विभाग मौन….मशीन से काटकर गाड़ियों में ले जा रहे हैं तस्कर

0

कुनकुरी- अभ्यारण जंगल का अस्तित्व अब खतरे में है।इसका जीता जागता परिणाम सड़कों में चलते देख सकते हैं।कभी इस अभ्यारण जंगल में जंगली जानवर का भरमार रहता था।लेकिन जंगलों की अंधाधुंध कटाई से जंगल वीरान दिखने लगा है।विभाग की मौनता,मुख्यालय में न रहने और ग्रामीणों से सामंजस्य न बनाने इसका मुख्य कारण है।

सागौन पेड़ों की कटाई मशीनों से
अभयारण्य जंगल में गिने चुने जगहों पर सागौन का पेड़ बचा हुआ है।और लकड़ी तस्करों का नजर उसी में गड़ा हुआ है।वन विभाग के गस्ती न करने और मुख्यालय में न रहने के कारण लकड़ी तस्कर हावी हो रहे हैं।बीते रात को नारायणपुर रेंज के वन अभ्यारण्य क्षेत्र डहकुताला के पास लकड़ी तस्करों ने दो सागौन के पेड़ को लकड़ी काटने वाले मशीन से काटकर गाड़ी से ले गए।डहकुताला परिक्षेत्र में सागौन पेड़ों का घने जंगल था लेकिन अब मुश्किल से सौ डेड़ सौ पेड़ बचा है।पिछले साल भी यहाँ से कई पेड़ काटे गये।सब पेड़ को मशीनों से ही काटा जाता है।यह सागौन प्लांट मेन सड़कों से लगा हुआ है।लेकिन लकड़ी तस्कर आराम से पेड़ों को काटकर गाड़ी में लोड करके ले जाते हैं।कई सालों से यह प्रक्रिया चल रहा है लेकिन वन विभाग को सुराग तक नही लगा न ही इस विषय में कुछ कार्यवाही हुआ।अगर समय रहते विभाग इस पर सख्त रवैया नही अपनाता है तो पर्यावरण पर आने वाला समय में प्रभाव पड़ेगा।देखते हैं विभाग सम्बंधित बिट और सम्बंधित क्षेत्र के अधिकारियों पर क्या कार्यवाही करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here