ओवरलोड कोल परिवहन बना राहगीरों के जान माल के लिए खतरा.. एसईसीएल को है बड़ी घटना का इंतजार ?

0

प्रतापपुर। ओवरलोड कोल परिवहन के कारण राहगीरों के जान माल का खतरा बना हुआ है एसईसीएल द्वारा महान 2 एवं जगरनाथपुर माइंस से कोल परिवहन खड़गवां कला,सुखदेवपुर,बोझा एवं सोनगरा में बनारस मुख्य मार्ग होते हुए भटगांव किया जा रहा है । ठेकेदार द्वारा परिवहन राशि कम होने के कारण हमेशा ओवरलोड ढुलाई कराई जा रही है ट्राला में कोयला अत्यधिक मात्रा में भरकर परिवहन किया जा रहा है जिसके कारण एसईसीएल द्वारा निर्मित सड़क कई स्थान पर टूट कर गड्ढे में तब्दील हो गई है साथ ही ट्राला में कोयला डाला से ऊपर तक भरा रहता है जिससे कोयला रास्ते मे गिरता हुआ जाता है। सबसे ज्यादा खतरा दोपहिया सवारों के साथ होता है कई बार कोयला का टुकड़ा इन पर गिर जाता है जिससे विवाद की स्थिति भी निर्मित हुई हैं परंतु एसईसीएल के अधिकारी इससे इतेफाक नही रखते है अभी कुछ दिनों पूर्व ही खराब रास्ते पर किनारे से ट्राला निकालने के चक्कर मे दुर्घटना हुआ था ट्राला पेड़ की डाली तोड़ते हुए घर के किनारे फ़स गई थी ग्रामीणो द्वारा चक्का जाम किया गया तो विभाग के अधिकारी मरम्मत का आश्वासन देकर ग्रामीणो से रास्ता खुलवा लिए परन्तु मार्ग में गिराए गए गिट्टी के डस्ट को भी ढंग से नही फैलाया गया है जिससे राहगीरों को आने जाने में परेशानी हो रही है ।
एसईसीएल के अधिकारी प्रतिदिन इसी मार्ग से आना जाना करते है परंतु पता नही ये अधिकारी कौन सी बड़ी घटना का इंतजार कर रहे है इन्हें सुधार करना नही सूझ रहा है सोनगरा एवं बोझा के ग्रामीणो ने बताया कि ओवरलोड वाहनों के आवागमन के कारण अभी कुछ वर्ष पूर्व निर्मित सड़क कई जगह से उखड़ कर गड्ढे मे तब्दील हो गया है ग्रामीणो के अनुसार पूर्व में ट्राला को ऊपर से तिरपाल में ढ़ककर डाला तक कोल परिवहन किया जाता था,परंतु अभी ओवरलोड वाहन खुले में डाला से ऊपर खुलेआम परिवहन कर रहे ना तो इसे कोई देखने वाला है एवं ना ही कोई मना करने वाला । कोलवाहन ट्राला में ओवरलोड होने एवं ढका हुआ नही होने के कारण कोयला का टुकड़ा मार्ग में गिरता है जो बहुत खतरनाक है दुपहिया वाहन सवार साइड लेने के दौरान कई बार बाल बाल बचते है ग्रामीणो ने शासन प्रशासन से ध्यान देकर राहगीरों एवं ग्रामीणो के जानमाल की रक्षा कर ओवरलोड वाहनों से कोल परिवहन पर लगाम लगाने की मांग की है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here