विश्व एड्स दिवस पर पंडित रेवती रमण मिश्रा महाविद्यालय सूरजपुर में राष्ट्रीय सेवा योजना द्वारा विविध कार्यक्रम आयोजित

0

सूरजपुर। पं.रेवती रमण मिश्रा महाविद्यालय सूरजपुर में विश्व एड्स दिवस पर राष्ट्रीय सेवा योजना के बैनर तले पिरामल फाऊंडेशन छत्तीसगढ़ एड्स कन्ट्रोल सोसायटी सूरजपुर, रेड रिबन क्लब के द्वारा विविध कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। जिसमें रंगोली के माध्यम से जागरूकता संदेश प्रतियोगिता, व्याख्यानमाला, वाद-विवाद, पोस्टर बनाओ प्रतियोगिता, स्वास्थ्य प्रश्नोत्तरी आदि के माध्यम से एड्स और टीबी मुक्त भारत का संदेश दिया गया। इस अवसर पर प्राचार्य डॉ. एच.एन.दुबे ने कहा की एड्स और टीबी बिमारी का रोकथाम के लिए जन जागरूकता जरूरी है। राष्ट्रीय सेवा योजना की गतिविधियां राष्ट्र और समाज को समर्पित है। हमारे विद्यार्थि समाज में बदलाव के लाने के लिए एक सप्ताह का शिविर लगा कर गांवों में निवास करते हैं इस बार विशेषरूप से टीबी मुक्त पंचायत के लिए घर घर में संदेश पहुंचायेंगे। जिस पंचायत में शिविर का आयोजन हो वह पंचायत टीबी मुक्त पंचायत बने ।

कार्यक्रम के प्रमुख वक्ता पिरामल फाऊंडेशन छत्तीसगढ़ के जिला कार्यक्रम अधिकारी आशीष गुप्ता ने कहा की युवाओं शक्ति समाज में परिवर्तन का परिचायक है। वर्तमान समय का मांग है की स्वास्थ्य के प्रति लोगों में जागरूकता लाने के लिए युवा पीढ़ी का उपयोग कैसे किया जाए। टीबी मुक्त भारत के लिए राष्ट्रीय सेवा योजना के विद्यार्थि यदि आगें आते हैं तो यह एक नवाचार होगा। जिसका रेखांकन प्रांत स्तर पर होगा। डॉ. सुश्री प्रतिभा कश्यप ने कहा की संक्रमण वाले बिमारियों से बचने के लिए पंचायत के जनप्रतिनिधियों का सहयोग लेना हितकर होगा।

जिला परामर्शदाता श्रीमती वंदना जायसवाल ने कहा की स्वास्थ्य समाज के निर्माण में युवाओं की अहम भूमिका है। युवा शक्ति का उपयोग से हम सूरजपुर जिला के गौरव को प्रांत और राष्ट्रीय स्तर तक ले जा सकते हैं। इस कार्यक्रम के सूत्रधार पिरामल स्वास्थ्य के जिला कार्यक्रम समन्वयक राज नारायण द्विवेदी ने कहा की एड्स कोई बिमारी नहीं है इसमें व्यक्ति का बिमारी से लड़ने की क्षमता नष्ट हो जाती है जिससे व्यक्ति को कोई बिमारी होती है तो जल्द ठीक नहीं होती। एड्स चार कारणों से होता है पर उससे बचा जा सकता है परन्तु टीबी की बिमारी हवा के माध्यम से फैलती है जिससे बचना मुश्किल है इस इलाज सम्भव है हर जिला और ब्लॉक में सुविधा है। टीबी बिमारी से बचाने के लिए अपने पास-पड़ोस चौदह दिन के खांसी वाले लोगों का बलगम जांच करवाये। पांजेटीव आने पर दावा नियमित खायें बिल्कुल ठीक हो जायेंगे। राष्ट्रीय सेवा योजना के जिला संगठक डॉ. चन्द्र भूषण मिश्र ने कहा की समाज निर्माण में युवा पीढ़ी का भूमिका अहम है । यह गौरव की बात है कि पिरामल फाऊंडेशन जैसी संस्था आकर हमारे महाविद्यालय के छात्रों छात्राओं को टीबी मुक्त भारत के निर्माण में सहयोग करने की बातें कर रही है । निश्चित तौर पर हमारे समाज सेवी छात्र छात्राएं इस यश का भागी बनेंगे । आभार प्रदर्शन और संचालन डॉ. हेमंत कुमार सेन ने किया । महाविद्यालय परिवार के बहुतायत प्रध्यापकगण सहभागी हो कर विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम में विशेष सहयोग बुध लाल साहु, आनंद कुमार पैकरा डॉ रश्मि पान्डेय, रश्मि यादव का रहा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here