आज नहीं कल जारी होंगे सीबीएसई 10वीं के रिजल्ट….एचआरडी मिनिस्टर ने ट्वीट करके दी जानकारी

0

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) बोर्ड 10वीं के परीक्षा परिणाम की तरीख तय हो गई है। बोर्ड कल यानि 15 जुलाई को 10वीं के नतीजे घोषित करेगा। यह जानकारी खुद मानव विकास संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल ने दी है। सीबीएसई बोर्ड 10वीं के छात्र बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर यह रिजल्ट देख सकते हैं।

परिणाम जारी होने के बाद छात्र अपना रिजल्ट सीबीएसई बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट www.cbse.nic.in. पर जाकर चेक कर सकते हैं। बता दें कि इस साल, 10वीं की परीक्षायें 21 फरवरी को शु्रू हुयीं थीं और उन्हें 29 मार्च को समाप्त होना था, लेकिन इसी दौरान 25 मार्च को देश में कोविड-19 महामारी की वजह से लॉकडाउन घोषित कर दिया गया था।

सीबीएसई के 10वीं के अपने नतीजे देखने के लिए आपको सबसे पहले cbseresults.nic.in वेबसाइट पर जाना होगा। यहां आपको रिजल्ट का लिंक मिलेगा, जिसे क्लिक करना है। इसके बाद स्कूल का कोड और अपना रोल नंबर मांगी हुई जगह पर डाल दें। ये डिटेल सब्मिट करने के साथ ही नतीजे आपके कंम्प्यूट स्क्रिन पर सामने होंगे।

इस साल 12वीं में नहीं जारी हुई मेरिट लिस्ट

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने 12वीं कक्षा की परीक्षा के परिणाम सोमवार को घोषित कर दिये, जिसमें इस बार भी लड़कियों ने बाजी मारी। लड़कियों के उत्तीर्ण होने का प्रतिशत लड़कों की तुलना में 5.96 प्रतिशत अधिक रहा। 12वीं कक्षा में क्षेत्रवार त्रिवेंद्रम क्षेत्र का प्रदर्शन सबसे अच्छा रहा, जहां के छात्रों का उत्तीर्ण प्रतिशत 97.67 रहा ।
सीबीएसई ने कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न परिस्थितियों को देखते हुए इस वर्ष मेरिट सूची जारी नहीं करने का निर्णय लिया है । सीबीएसई द्वारा जारी बयान के अनुसार, इस वर्ष 12वीं कक्षा में कुल 88.78 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण हुए, जबकि 2019 में 83.40 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण हुए थे। यानी, पिछले साल की तुलना में इस साल 5.38 प्रतिशत अधिक छात्र उत्तीर्ण हुए। इस साल लड़कियों का उत्तीर्ण प्रतिशत 92.15 रहा, जबकि लड़कों का उत्तीर्ण प्रतिशत 86.19 रहा। ट्रांसजेंडर का उत्तीर्ण प्रतिशत 66.67 दर्ज किया गया।
12वीं कक्षा की परीक्षा में 38,686 छात्रों को 95 प्रतिशत से अधिक अंक मिले, जबकि 1,57,934 छात्रों ने 90 प्रतिशत से अधिक अंक हासिल किए । बोर्ड ने कोविड-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर लंबित परीक्षाएं रद्द कर दी थीं और वैकल्पिक मूल्यांकन योजना के आधार पर परिणाम घोषित किया है। चार बिन्दुओं पर आधारित इस योजना के तहत छात्र को उस विषय के आधार पर अंक दिए गए हैं, जिनमें उसे सर्वाधिक अंक मिले हैं। बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया कि हालांकि इस योजना के अनुसार जिन 400 छात्रों के अंकों की गणना नहीं हो पायी है, उनका परिणाम बाद में घोषित किया जाएगा।
इस वर्ष 13,109 स्कूलों में 4,984 परीक्षा केंद्रों पर 12वीं कक्षा की परीक्षाएं आयोजित की गई थीं। इसमें 12,03,595 छात्रों ने परीक्षा देने के लिये पंजीकरण कराया था और 10,59,080 छात्र परीक्षा में बैठे थे। इनमें से 88.78 प्रतिशत छात्र उत्तीर्ण हुए ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here